donateplease
newsletter
newsletter
rishta online logo
rosemine
Bazme Adab
Google   Site  
Bookmark and Share 
design_poetry
Share on Facebook
 
Kaifi Azmi
 
Share to Aalmi Urdu Ghar
* खारो-ख़स तो उठें, रास्ता तो चले । *
खारो-ख़स तो उठें, रास्ता तो चले ।
मैं अगर थक गया, काफ़िला तो चले ।

चाँद-सूरज बुजुर्गों के नक़्शे-क़दम
ख़ैर बुझने दो इनको, हवा तो चले ।

हाकिमे-शहर, ये भी कोई शहर है
मस्जिदें बंद हैं, मयकदा तो चले ।

इसको मज़हब कहो या सियासत कहो
ख़ुदकुशी का हुनर तुम सिखा तो चले ।

इतनी लाशें मैं कैसे उठा पाऊँगा
आज ईंटों की हुरमत बचा तो चले ।

बेलचे लाओ, खोलो ज़मीं की तहें
मैं कहाँ दफ़्न हूँ, कुछ पता तो चले ।
****
 
Comments


Login

You are Visitor Number : 373