donateplease
newsletter
newsletter
rishta online logo
rosemine
Bazme Adab
Google   Site  
Bookmark and Share 
design_poetry
Share on Facebook
 
Kaifi Azmi
 
Share to Aalmi Urdu Ghar
* चलते-चलते यूँ ही कोई मिल गया था, सरे & *
चलते-चलते यूँ ही कोई मिल गया था, सरे राह चलते-चलते
वहीं थम के रह गई है, मेरी रात ढलते-ढलते

जो कही गई न मुझसे, वो ज़माना कह रहा है
के फ़साना बन गई है, मेरी बात टलते-टलते

शबे इन्तज़ार आख़िर कभी होगी मुख़्तसर भी
ये चिराग़ बुझ रहे हैं मेरे साथ चलते-चलते

फ़िल्म : पाकीजा-1972
 
Comments


Login

You are Visitor Number : 394