donateplease
newsletter
newsletter
rishta online logo
rosemine
Bazme Adab
Google   Site  
Bookmark and Share 
design_poetry
Share on Facebook
 
Kaifi Azmi
 
Share to Aalmi Urdu Ghar
* पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए । *
पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए ।
हम चाँद से आज लौट आए ।

दीवारें तो हर तरफ़ खड़ी हैं
क्या हो गया मेहरबान साए ।

जंगल की हवाएँ आ रही हैं
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए ।

लैला ने नया जन्म लिया है
है क़ैस कोई जो दिल लगाए ।

है आज ज़मीं का गुस्ले-सेहत
जिस दिल में हो जितना ख़ून लाए ।

सहरा-सहरा लहू के ख़ेमे
फिए प्यासे लबे-फ़रात[4] आए ।
****
 
Comments


Login

You are Visitor Number : 370