donateplease
newsletter
newsletter
rishta online logo
rosemine
Bazme Adab
Google   Site  
Bookmark and Share 
design_poetry
Share on Facebook
 
Khumar Barabankvi
 
Share to Aalmi Urdu Ghar
* आँसूगदी से इश्क-ए-जवाँ को बचाइए *
आँसूगदी से इश्क-ए-जवाँ को बचाइए
कोई जो मान जाए तो खुद रूठ जाइए 

जश्न-ए-सूरूर बाए सनम पर मनाइए
ये कुसूर है तो कुसूर का ईमान लाईए

ये कौन आया है
 आधी रात को मयकदे 
तौबा ये जानाब-ए-शेख तशरीफ लाईए

काफी है आर्ज़-ए-गम के लिए मुज़्महिल हँसी
रो-रो के इश्क को न तमाशा बनाईए

बेमौत मार डालेंगी ये होश मन्दिया
****
 
Comments


Login

You are Visitor Number : 382