donateplease
newsletter
newsletter
rishta online logo
rosemine
Bazme Adab
Google   Site  
Bookmark and Share 
design_poetry
Share on Facebook
 
Khumar Barabankvi
 
Share to Aalmi Urdu Ghar
* हाले-ग़म उन को सुनाते जाइए *
हाले-ग़म उन को सुनाते जाइए 
शर्त ये है मुस्कुराते जाइए

आप को जाते न देखा जाएगा 
शम्मअ को पहले बुझाते जाइए

शुक्रिया लुत्फ़े-मुसलसल का मगर 
गाहे-गाहे दिल दुखाते जाइए

दुश्मनों से प्यार होता जाएगा 
दोस्तों को आज़माते जाइए 

रोशनी महदूद हो जिनकी 'ख़ुमार' 
उन चराग़ों को बुझाते जाइए
****
 
Comments


Login

You are Visitor Number : 375