donateplease
newsletter
newsletter
rishta online logo
rosemine
Bazme Adab
Google   Site  
Bookmark and Share 
design_poetry
Share on Facebook
 
Khwaja Mir Dard
 
Share to Aalmi Urdu Ghar
* जग में आकर इधर उधर देखा| *
जग में आकर इधर उधर देखा|
तू ही आया नज़र जिधर देखा|

जान से हो गए बदन ख़ाली,
जिस तरफ़ तूने आँख भर देखा|

नाला, फ़रियाद, आह और ज़ारी,
आप से हो सका सो कर देखा|

उन लबों ने की न मसीहाई,
हम ने सौ-सौ तरह से मर देखा|

ज़ोर आशिक़ मिज़ाज है कोई,
‘दर्द’ को क़िस्स:-ए- मुख्तसर देखा|
****
 
Comments


Login

You are Visitor Number : 310