donateplease
newsletter
newsletter
rishta online logo
rosemine
Bazme Adab
Google   Site  
Bookmark and Share 
design_poetry
Share on Facebook
 
Kumaar Paashii
 
Share to Aalmi Urdu Ghar
* रात--प्यारी रात-नाच *
रात--प्यारी रात-नाच 
चल रही है आज यादों की पवन--ऐ रात नाच 
आसमानों की बहन--ऐ रात नाच 

ऐ मेरी देरीना महबूबा, मेरी दिलदार नाच 
वहशियों के हाथ की तलवार नाच 
इस ज़मीन की सरहदों के पार--नाच 

पर्बतों पर नाच, दरयाओं पे नाच 
गुलशनों पर नाच, सहराओं पे नाच 
दूर के फूलों भरे मधुबन में नाच 
रात! मेरे घर मेरे आंगन में नाच 

रात--प्यारी रात--आ 
चांद तारों की दुलारी रात-आ 
दो घड़ी अब दर्द की महफ़िल में नाच 
रात! मेरे दिल में नाच

 
Comments


Login

You are Visitor Number : 307